तेरे नाम कि यादें (Memories of your name)

मेरे हर सासोंमे है तेरा नाम,
नाम के हर शब्द पर है मेरा ध्यान|

हर कदम पर उछल्ति है तेरि यादें,
उन यादों मे दुबि रहति है मेरि नज़रे|

चाहता हुं उन्हि सासोंमे कदम बढाए जाऊं,
तेरे साथ शब्दॊ कों युहिं बुन्ते जाऊं|

पता नहि क्युं सोचता हुं तेरे बारें में,
सोचता हुं बस जीना चाहता हुं तेरे दिल में|

यह दिल तो है हि प्यार का भिकारि,
एक हि सोच मे बलिदान हो जाति है प्यार कि अमीरी|

याद तो बोहोत कर लिये पुरानि बातें,
क्युं न हो जाये और भि नये मुलाकाते|

तेरे एक नाम से झलक उठति है यादें पुरानि,
अब क्युं न हो जाये और भि नयि नयि|

Published by

Krish

Android Development Enthuasiat,

Bengaluru, India.

Want to say something?